Thought For The Day

आज का सुविचार

जहां बड़े-बड़े विद्वानों की बुद्धि
काम नहीं करती, वहां एक श्रद्धालु की
श्रद्धा काम कर जाती है।
– महात्मा गाँधी


सबसे अधिक ज्ञानी वही है,
जो अपनी कमियों को समझकर
उनका सुधार कर सकता हो।


जगत का कर्ता सब जगह
और सब प्राणी मात्र में मौजूद हैं।


अपनी सोच को कैसे बेहतर
बनाया जाए, यह सीखने से
उत्कृष्ट कुछ नहीं है।


जीवन में बुरी आदत पर विजय
प्राप्त करने की तुलना में,
कोई इससे बड़ा आनन्द नहीं हो सकता हैं।


जिस मनुष्य मे संतुष्टि के
अंकुर फुट गये हों,
वो संसार के सुखी मनुष्यों
मे गिना जाता हैं।

(स्वामी दयानन्द सरस्वती)


प्रकृति को गहराई से देखें,
और आप हर चीज़ को
बेहतर समझ पाएंगे।

  (Albert Einstein)

Quotes about Books in Hindi

किताबों पर अनमोल विचार

पुस्तकों का मूल्य रत्नों से भी अधिक है,
क्योंकि पुस्तकें अन्तःकरण को
उज्ज्वल करती हैं।
– महात्मा गांधी

यदि किसी असाधारण प्रतिभा वाले आदमी से हमारा सामना हो तो हमें उससे पूछना चाहिये कि वो कौन सी पुस्तकें पढता है।

अच्छी किताब एक जादुई कालीन की तरह है जो आहिस्ते से हमें उस दुनिया की सैर कराती है जहाँ दूसरी किसी चीज़ के ज़रिए हम प्रवेश नहीं कर सकते।

बेहतर ज़िंदगी का रास्‍ता
बेहतर किताबों से होकर जाता है।

अच्छी पुस्तकों के पास होने से हमें अपने भले मित्रों के साथ न रहने की कमी नहीं खटकती। जितना ही मैं पुस्तकों का अध्ययन करता गया उतना ही अधिक मुझे उनकी विशेषताएं मालूम होती गईं। – महात्मा गांधी

जो पुस्तकें हमें सोचने के लिए विवश करती हैं, वे हमारी सबसे अधिक सहायक हैं। – जवाहरलाल नेहरू

बिना ग्रंथों का कक्ष, बिना आत्मा की देह है।

वह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं।

अच्छा ग्रंथ एक महान् आत्मा का अमूल्य जीवन रक्त है।

सभी अच्छी पुस्तकों को पढ़ना पिछली शताब्दियों के बेहतरीन व्यक्तियों के साथ संवाद करने जैसा है।

वे माता- पिता धन्य हैं, जो अपनी संतान के लिए उत्तम पुस्तकों का एक संग्रह छोड़ जाते हैं।

विचारहीन लोग धर्मग्रंथों को उसी प्रकार बांचते रहते हैं, जिस प्रकार पिंजरे में तोता राम राम की रट लगाता है।

महापुरुषों का ग्रंथ सबसे बड़ा सत्संग है।

आज के लिए और सदा के लिए सबसे बड़ा मित्र है अच्छी पुस्तक।

रोग की तकलीफ शांत करने के लिए चित्ताकर्षक और मनोरंजक पुस्तक से बढ़ कर दूसरा कोई अच्छा साधन नहीं है।

अपने माता पिता से आप प्रेम और हंसी सीखते हैं और पांव पांव चलना भी। लेकिन किताबें खुलने पर आप को पता चलता है कि आप के तो पर भी हैं।

मुझे टीवी बहुत शिक्षाप्रद लगता है। जब भी कोई टीवी चलाता है, तो मैं दूसरे कमरे में जाता हूँ और किताब पढ़ता हूँ। – ग्रौचो मार्क्स

मनोविकारों से परेशान, दु:खी, चिंतित मनुष्य के लिए उनके दु:ख-दर्द के समय श्रेष्ठ पुस्तकें ही सहारा है।

विश्व एक विशाल ग्रंथ है और जो कभी घर के बाहर नहीं जाते, वे उसका केवल एक पृष्ठ ही पढ़ पाते हैं।

किताबें समय के महासागर में जलदीप की तरह रास्ता दिखाती हैं।

अलमारियों में बंद वेदान्त की पुस्तकों से काम न चलेगा, तुम्हें उसको आचरण में लाना होगा।

विश्व एक महान् पुस्तक है जिसमें वे लोग केवल एक ही पृष्ठ पढ पाते हैं जो कभी घर से बाहर नहीं निकलते।

किताबों में इतना ख़ज़ाना छुपा हैं, जितना कोई लुटेरा कभी लूट नहीं सकता।

किताबें ऐसी शिक्षक हैं जो बिना कष्ट दिए, बिना आलोचना किए और बिना परीक्षा लिए हमें शिक्षा देती हैं।

पुस्तक एक बग़ीचा है जिसे जेब में रखा जा सकता है, किताबों को नहीं पढ़ना किताबों को जलाने से बढ़कर अपराध है।

पुस्तकें जाग्रत देवता हैं, उनकी सेवा कर के तत्काल वरदान पाया जा सकता है।

विचारों के युद्ध में, पुस्तकें ही अस्त्र हैं। – जार्ज बर्नार्ड शॉ

सुभाषितों की पुस्तक कभी पूरी नहीं हो सकती।

पुस्तक प्रेमी सबसे धनवान व सुखी होता है, संपूर्ण रूप से त्रुटिहीन पुस्तक कभी पढ़ने लायक़ नहीं होती। – जॉर्ज बर्नार्ड शॉ

पलटने और पढ़ने में बड़ा फ़र्क़ है। जो पाठक किताब को सचमुच पढ़ लेते हैं, वे सदा उसे अपने साथ महसूस कर सकते हैं। – राधाकृष्णन

जो वेद और शास्त्र के ग्रंथों को याद रखने में तत्पर है किन्तु उनके यथार्थ तत्व को नहीं समझता, उसका वह याद रखना व्यर्थ है। – वेदव्यास

बिना ग्रंथ के ईश्वर मौन है, न्याय निद्रित है, विज्ञान स्तब्ध है और सभी वस्तुएं पूर्ण अंधकार में हैं।

Quotes about Compassion in Hindi

दया के विषय पर अनमोल विचार

हम सभी ईश्वर से दया कि प्रार्थना
करते हैं और वही प्रार्थना हमे
दूसरों पर दया करना सिखाती है।

जो ग़रीबों पर दया करता है वह अपने कृत्यों से (कार्य से) ईश्वर को ऋणी बनाता है।

तीन चीज़ें हमेशा दिल में रखनी चाहिए – नम्रता, दया और माफ़ी।

जिनका मन कपटरहित है,
वे ही प्राणिमात्र पर दया करते हैं।

जिसमे दया नहीं उसमे कोई सद्गुण नहीं।

शांति जैसा तप नहीं है, संतोष से बढ़कर सुख नहीं है, तृष्णा से बढ़कर रोग नहीं है और दया से बढ़कर धर्मा नहीं है। – चाणक्य

दया धर्म का मूल है, पाप मूल अभिमान, तुलसी दया न छोड़िये, जब लग घट में प्राण। – तुलसीदास

जिसमें दया नहीं है, वह तो जीते जी ही मुर्दे के समान है। दूसरे का भला करने से ही अपना भला होता है।

दयालु लोगों का शरीर परोपकार से सुशोभित होता है, चंदन से नहीं।

दयालु चेहरा सदैव सुंदर होता है।

दयालुता दयालुता को जन्म देती है।

दयालुता से दयालुता का और विश्वास से विश्वास का जन्म होता है।

कितने देव, कितने धर्म, कितने पंथ चल पड़े पर इस शोकग्रस्त संसार को केवल दयावानों कि आवश्यकता है।

क्रोध को क्षमा से, विरोध को अनुरोध से, घृणा को दया से, द्वेष को प्रेम से और हिंसा को अहिंसा की भावना से जीतो। – दयानंद सरस्वती

जो असहायों पर दया नहीं करता, उसे शक्तिशालियों के अत्याचार सहने पड़ते हैं।

जो बलवान होकर निर्बल की रक्षा करता है, वही मनुष्य कहलाता है और जो स्वार्थवश परहानि करता है, वह पशुओं से भी गया-बीता है।

जो सचमुच दयालु है, वही सचमुच बुद्धिमान है, और जो दूसरों से प्रेम नहीं करता उस पर ईश्वर की कृपा नहीं होती।

दया और सत्यता परस्पर मिलते हैं, धर्म और शांति एक दुसरे का साथ देतें हैं। – बाइबल

दया का दान लड़खड़ाते पैरा में नई शक्ति देना, निराश हृदय में जागृति की नई प्रेरणा फूँकना, गिरे हुए को उठाने की सामथ्र्य प्रदान करना एवं अंधकार में भटके हुए को प्रकाश देना।

दया चरित्र को सुन्दर बनती है।

दया दोतरफी कृपा है। इसकी कृपा दाता पर भी होती है और पात्र पर भी।

दुनिया का अस्तित्व शस्त्रबल पर नहीं, बल्कि सत्य, दया और आत्मबल पर है। – महात्मा गांधी

देते हुए पुरुषों का धन क्षीण नहीं होता। दान न देने वाले पुरुष को अपने प्रति दया करने वाला नहीं मिलता।

न्याय करना ईश्वर का काम है, आदमी का काम तो दया करना है।

न्याय का मोती दया के हृदय में मिलता है।

परमात्मा हमेशा दयालु है। जो शुद्ध हृदय से उसकी मदद मांगता है उसे वह अवश्य देता है। – स्वामी विवेकानंद

वास्तव में वे ही लोग श्रेष्ठ हैं जिनके हृदय में सर्वदा दया और धर्म बसता है, जो अमृत-वाणी बोलते हैं तथा जिनके नेत्र नम्रतावश सदा नीचे रहते हैं।

शांति के समान दूसरा तप नहीं है, न संतोष से परे सुख है, तृष्णा से बढ़कर दूसरी व्याधि नहीं है, न दया से अधिक धर्म है। – चाणक्य

श्रेष्ठ वही है जिसके हृदय में दया व धर्म बसते हैं, जो अमृतवाणी बोलते हैं और जिनके नेत्र विनय से झुके होते हैं।

सज्जनों का लक्षण यह है कि वे सदा दया करने वाले और करुणाशील होते हैं। – विनोबा भावे

हममें दया, प्रेम, त्याग ये सब प्रवृत्तियां मौजूद हैं। इन प्रवृत्तियों को विकसित करके अपने सत्य को और मानवता के सत्य को एकरूप कर देना, यही अहिंसा है।

Success – Failure

सफलता – असफलता (Quotes for Success)

मैं यह नहीं कहूँगा कि मैं 1000 बार असफल हुआ, मैं यह कहूँगा कि ऐसे 1000 रास्ते हैं जो आपको असफलता तक पहुँचाते हैं। – Thomas Edison

असफलता फिर से अधिक सूझ-बूझ के साथ कार्य आरम्भ करने का एक मौका मात्र है। – Henry Ford

जो कभी भी कहीं असफल नही हुआ वह आदमी महान नही हो सकता।

यदि आपको पहली बार में सफलता नहीं मिलती है, तो फिर से कड़ी मेहनत करें।

यदि बार-बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका अर्थ है कि आप कुछ आविष्कारक काम भी नहीं कर रहे हैं।

आशावादी व्यक्ति हर आपदा में एक अवसर देखता है; निराशावादी व्यक्ति हर अवसर में एक आपदा देखता है। – Winston Churchill

हमारी महानतम सफलता कभी भी न गिरने में नहीं, अपितु हर बार गिरने पर फिर उठने में निहित होती है।

प्रत्येक व्यक्ति को सफलता प्रिय है लेकिन सफल व्यक्तियों से सभी लोग घृणा करते हैं।

भगवान यह अपेक्षा नहीं करते कि हम सफल हों, वे तो केवल इतना ही चाहते हैं कि हम प्रयास करें।

किसी दूसरे द्वारा रचित सफलता की परिभाषा को अपना मत समझो।

सतत प्रयास, न कि ताकत या बुद्धिमानी, ही हमारे सामर्थ्य को साकार करने की कुंजी है। – Winston Churchill

सफलता का कोई गुप्त रहस्य नहीं होता। क्या आप किसी सफल आदमी को जानते हैं जिसने अपनी सफलता का बखान नहीं किया हो।

सफलता का एक ही सूत्र है और वह जब अन्य हिम्मत हार चुके हों तो भी आप डटे रहते हैं।

असफलता मात्र फिर से कार्यारम्भ करने का अवसर होती है, इस बार और अधिक बुद्धिमत्ता से। – हेनरी फोर्ड

अगर सफलता का कोई राज़ है, तो वह दूसरे के दृष्टिकोण को समझने और चीजों को उसके दृष्टिकोण से अपने दृष्टिकोण जितने अच्छे से देख पाने की क्षमता में निहित है। – हेनरी फोर्ड

असफलता आपको महान कार्यों के लिये तैयार करने की प्रकृति की योजना है।

मुझे अधिक संबंध इस बात से नहीं है कि आप असफ़ल हुए, बल्कि इस बात से कि आप अपनी असफलता से कितने संतुष्ट है। – Abraham Lincoln

मैं सफलता के लिए इंतजार नहीं कर सकता था, अतएव उसके बगैर ही मैं आगे बढ़ चला। – जोनाथन विंटर्स

सफलता का कोई रहस्य नहीं हैं, यह तैयारी, कड़ी मेहनत और असफलता से सीखने का ही परिणाम होता है।

सफलता की सभी कथायें बडी-बडी असफलताओं की कहानी हैं।

हार का स्‍वाद मालूम हो तो जीत हमेशा मीठी लगती है।

समस्त सफलताएं कर्म की नींव पर आधारित होती हैं।

जीवन में अनेक विफलताएं केवल इसलिए होती हैं क्योंकि लोगों को यह आभास नहीं होता है कि जब उन्होंने प्रयास बन्द कर दिए तो उस समय वह सफलता के कितने क़रीब थे। – Thomas Edison

सफलता के लिये कोई लिफ्‍ट नही जाती इसलिये सीढ़ीयों से ही जाना पढ़ेगा।

अधिकांश सफल व्यक्ति ऐसे व्यक्ति हैं, जो बोलते कम और सुनते ज्यादा हैं।

असफल होने पर, आप को निराशा का सामना करना पड़ सकता है। परन्तु , प्रयास छोड़ देने पर, आप की असफलता सुनिश्चित है।

असफलता की उत्पत्ति तभी होती है जब आप प्रयास करना बन्द कर देते हैं।

सफलता सार्वजनिक उत्सव है , जबकि असफलता व्यक्तिगत शोक।

सफलता हमेशा के लिए नहीं होती, असफलता कभी घातक नहीं होती: यह तो लगे रहने की प्रवृत्ति है जो मायने रखती है। – Winston Churchill

पहाड़ की चोटी पर पंहुचने के कई रास्‍ते होते हैं लेकिन व्‍यू सब जगह से एक सा दिखता है।

विचारों को मूर्त रूप देने की क्षमता ही सफलता का रहस्य है।

जीवन में दो ही व्यक्ति असफल होते हैं। पहले वे जो सोचते हैं पर करते नहीं , दूसरे वे जो करते हैं पर सोचते नहीं।

सफलता की खुशियां मनाना ठीक है, लेकिन असफलताओं से सबक सीखना अधिक महत्‍वपूर्ण है।

दो ही प्रकार के व्यक्ति वस्तुतः जीवन में असफल होते है – एक तो वे जो सोचते हैं, पर उसे कार्य का रूप नहीं देते और दूसरे वे जो कार्य-रूप में परिणित तो कर देते हैं पर सोचते कभी नहीं।

सफल मनुष्य बनने के प्रयास से बेहतर है गुणी मनुष्य बनने का प्रयास। – Albert Einstein

असफलता यह बताती है कि सफलता का प्रयत्न पूरे मन से नहीं किया गया।

दूसरों को असफल करने के प्रयत्न ही में हमें असफल बनाते हैं।

निराशावादी हर अवसर में कठिनाई देखता हैं, जबकि आशावादी हर कठिनाई में अवसर देखता हैं। – Winston Churchill

इच्छा सफलता का शुरूआती बिन्दु हैं, यह हमेशा याद दखें, जिस तरह छोटी आग से कम गर्माहट मिलती हैं उसी तरह कमज़ोर इच्छा से कमज़ोर परिणाम मिलते है। – Napoleon Hill

हम हवा का रूख तो नही बदल सकते लेकिन उसके अनुसार अपनी नौका के पाल की दिशा जरूर बदल सकते हैं।

सफल होने के लिए आपको असफलता का स्वाद अवश्य चखना चाहिए, ताकि आपको यह पता चल सके कि अगली बार क्या नहीं करना है।

जीवन के आरम्भ में ही कुछ असफलताएँ मिल जाने का बहुत अधिक व्यावहारिक महत्व है।

सफलता के तीन रहस्य हैं – योग्यता , साहस और कोशिश।

सफल होने के लिए ज़रूरी है कि आप में सफलता की आस असफलता के डर से कहीं अधिक हो।

असफलता का मतलब यह नहीं कि आप असफल हैं, इसका मतलब सिर्फ इतना है कि आप अब तक सफल नहीं हो पाएँ हैं।

प्रत्येक व्यक्ति के लिए यह याद रखना बेहतर होगा कि सभी सफल व्यवसाय नैतिकता की नींव पर आधारित होते हैं।

एक मूल नियम है कि समान विचारधारा के व्यक्ति एक दूसरे के प्रति आकर्षित होते हैं, नकारात्मक सोच सुनिश्चित रुप से नकारात्मक परिणामो को आकर्षित करती है, इसके विपरीत, यदि कोई व्यक्ति आशा और विश्वास के साथ सोचने को आदत ही बना लेता है तो उसकी सकारात्मक सोच से सृजनात्मक शक्तियों सक्रिय हो जाती हैं- और सफलता उससे दूर जाने की बजाय उसी ओर चलने लगती है।

यहाँ दो तरह के लोग होते हैं – एक वो जो काम करते हैं और दूसरे वो जो सिर्फ क्रेडिट लेने की सोचते है। कोशिश करना कि तुम पहले समूह में रहो, क्‍योंकि वहाँ कम्‍पटीशन कम है।

यदि हम असफलता से शिक्षा प्राप्त करते हैं तो वह सफलता ही है।

ईमानदारी, चरित्र, विश्वास, प्रेम और वफादारी संतुलित सफलता के लिए नींव के पत्थर हैं। – जिग जिगलर

काम समस्त सफलता की आधारभूत नींव होता है।

सफल व्यक्ति होने का प्रयास न करें, अपितु गरिमामय व्यक्ति बनने का प्रयास करें। – Albert Einstein